न पांचवीं न ही छठवीं अनुसूची-आदिवासी हितों में किसी भी सरकार की नहीं है रुचि / केलो परियोजना अंतर्गत भूमि अधिग्रहण का मामला

0
116
,

(फ़ाइल चित्र)

👉 3 एकड़ 95 डिसमिल जमीन के बदले मिला मात्र 10 डिसमिल का मुआवजा

👉 करे कोई भरे कोई

👉 न तो जमीन वापस लौटाई जा रही और न ही मुआवजा दिया जा रहा है।

👉 विभागों के खेल में पिस गया आदिवासी किसान

👉अरबों रुपये की परियोजना ने भरा केवल ठेकेदारों और अधिकारियों का खजाना- सिंचाई का था केवल बहाना

👉 जब शासन की योजनाओं में भी भूमिपुत्रों/आदिवासियों को छला जाए तो क्या कहिएगा?

👉 ग्राम दनौट का है आदिवासी परिवार

👉 पढ़ना न भूलें रायगढ़ दर्पण के अगले अंक में :-

🔴रायगढ़ जिले की वृहद सिंचाई परियोजना केलो परियोजना में हुए व्यापक भ्रष्टाचार और लापरवाही के अनछुए पहलुओं पर प्रकाश डालती यह रिपोर्ट🔴

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here